How to control your anger

How to control your anger

अपने गुस्से को कैसे कंट्रोल करें 

How to control your anger

Image credit : Pexels.com

गुस्सा एक ऐसा  चीज हैं, जो  पुराने से पुराने रिश्ते को भी तोड़ के रख देता हैं। आपकी मन कि शांति छीन लेती हैं। आपकी कि गई एक बार कि गलती की सजा सारी जिंदगी भर  मिलती हैं।  कई बार आपकी मुंह से ऐसे शब्द निकल जाती है, जो कभी लौटाए न जाते। आप तो बस बोल जाते हैं, लेकिन व शब्द सामने वालो के दिल मे ऐसे घाव कर जाते हैं, जो जिंदगी भर कभी ठीक नहीं हो पाते।

          गुस्सा, क्रोध, नफ़रत ऐसी चीज हैं, जो आपकी मान कि सारी खुशियाँ छीन लेती हैं। जो आपके अंदर से आपकी शांति छीन लेती हैं।

      यूनान मे एक व्यक्ति ने नफ़रत के चित्र बनाया। एक बुढ़ा सा आदमी जिसका मुँह पीला हो गया हैं, जिसके पैरो मे आग कि ज्वाला हैं,और सांप लिपटी हुई हैं, और अपनी नुकली नाख़ून से अपनी ही छाती को चिर रहा था। लोगो ने चित्र बनाने वाले से पूछा, कि तुमने ये नफ़रत के चित्र जो बनाया हैं, इसका मतलब क्या हैं?     

  तब उस आदमी ने कहा, गुस्सा इस बूढ़े इंसान कि तरह हैं। जो पुरानी यादों से जुडा हुआ हैं। ये जो उसकी पैर मे आग कि ज्वाला और सांप लिपटी हुई हैं ना, ऐसे ही नफ़रत भी हमें जलाती रहती हैं।

ऐसे ही नफ़रत भी हमें डंस ती रहती हैं। अपना जहर छोड़ती रहती हैं। और जो ये व्यक्ति अपना नुकीलों नाख़ून से अपनी ही छाती को चिर रहा हैं, ये एक सिख देता हैं, कि जो इंसान नफ़रत से भरा होता हैं, वो सिर्फ अपना ही नुकसान करता हैं।        

 वो किसी और को घायल करें ना करें, वो अपनी ही दिल को घायल कर देता हैं। गुस्से के सबसे बड़ी सजा आपको भोग नी पड़ती हैं। आपकी नफ़रत के, आपका गुस्से के सबसे बड़ा दर्द आपको ही आपको ही झेलना पड़ता हैं।  

     गुस्से को निकालने के चार रास्ते होते हैं। There is 4 ways to control your anger

1. सामने वाले पे गुस्सा कर दें: Express your anger in front of him/her

How to control your anger

Image Credit : Pexels.com

हम सामने वाले पर गुस्सा कर दें, जो भी उसके लिए मन मे हैं वो केहदे। साईकटिस्ट कहते हैं, गुस्सा निकलने से थोड़ी देर के लिए आपका गुस्सा शांत होता हैं। आपको हल्का महसूस होता हैं, पर वो क्षणिक मुक्ति हैं। इसका परिणाम बहुत घातक हो जाता हैं।

ज़ब आप थोड़ी थोड़ी बातो पे लोगो पे आप गुस्सा करने लग जाते हैं, तो गुस्सा आपके आदत बनने लग जाते हैं। आपका संस्कार बनने लग जाता हैं। और उसीके वजह से जो भी आपके अपने हैं, वो सब आपसे दूर होने लगता हैं। आपको ये चीज समझ मे आने चाहिए कि, गुस्सा किसी को भी अच्छा नहीं लगता हैं।  

2.  गुस्से को दबाकर ना रखे :Do not hold your anger

How to control your anger

Image Credit : Pexels.com

कई लोग गुस्से को अंदर ही अंदर दबा देतें हैं। पर वो और ज्यादा ख़तरनाक होता हैं। मैंने एक अख़बार मे पढ़ा। एक लड़की कि मन मे हमेंशा अपनी माँ को मारने के ख्याल आता रेहता था। उसकी माँ उसको डाटती थी, हर चीज पर रोक टोक करत थी।

पर वो अपनी भावना को अंदर ही अंदर दबा के रखती थी, और उसकी वजह से उसकी एक हाथ मे लकवा मार गया। ज़ब डॉक्टर को उसने सारी बात बताई, तब डॉक्टर ने कहा, आप अपनी अंदर कि भावना को छोड़ दें। क्योंकी जितना देर ये भावना अंदर रहेगी, आपके शरीर मे और बीमारिया लेके आएगी। और उस दिन वो लड़की ने अपनी माँ के लिए वैसी भावना रखना छोड़ दिया। उसके वाद धीरे धीरे उसका हाथ ठीक होने लगा।       

   गुस्सा ऐसे ख़तरनाक चीज हैं। एक दूसरी अख़बार मे माने पढ़ा, आवेश आकर एक माँ ने अपने बच्चे को जलती हुई अगर मे फेक दिया। ज़ब गुस्से के आवेस चढता हैं आप पे, तब खुश समझ मे नहीं आता हैं। क्या कर रहे हैं? क्या बोल रहे हैं? सबसे बड़ा दुर्भाग्य आजकल ये हो गया हैं, हर कोई ये सोचता हैं, कि गुस्से के बिना काम नहीं होता।

याद रखना एक बात, हो सकता हैं, आपके गुस्से कि वजह से कोई इंसान आपका काम कर दें। लेकिन, दूसरी वर आप वो इंसान को खो देतें हैं। दूसरे इंसान के मन मे आप अपना इज्जत खो देतें हैं। गुस्से से तो वो एक बार काम कर लेगा।

लेकिन, प्यार से वो हमेंशा के लिए आपका काम करने के लिए तैयार हो जाएगा। तो जो आपको सोसाइटी सीखा रही हैं कि गुस्से के बिना कुछ नहीं होता। आप बिना सोचें समझे इस बात पे यकीन ना करें।  

3. क्षमा करना : Forgiveness

How to control your anger

Image Credit : Pexels.com

 जिस इंसान के अंदर माफ करने कि ताकत हैं, उस इंसान को कोई गुस्सा दिला ही नहीं सकता। जिसस क्रिस्ट, के हम इतिहास सुनते हैं। ज़ब उनको शुली पर चढ़ाया जा रहा था, तो भी उनके मन मे किसी के लिए गुस्सा नहीं था। उनके अंतिम शब्द ये था, है ईश्वर तुम इन्हें माफ कर देना। ये नहीं जानते कि ये क्या कर रहे हैं।  

How to control your anger

एक बार महात्मा बुद्ध के पास एक व्यक्ति आया। और वे महात्मा बुद्ध से कहने लगा, कास : आप जान पाते कि मै आपसे कितना नफ़रत करता हूं। वो व्यक्ति बहुत ही गुस्से से और क्रोध से भरा हुआ था। महात्मा बुद्ध ने उसकी तरफ बहुत प्यार से देखा और उसकी तरफ देख कर मुस्कुराके केहने लगे, प्यारे कास : तुम जान पाते कि मै तुम से कितना प्रेम करता हूं।

महात्मा बुद्ध कि इस बात को सुन कर उस व्यक्ति कि सारा गुस्सा गायब हो गया। उनके आँखो मे आँशु आ गए। वो उनके चरणों मे गिरकर रोने लगा। कि मेरे मन मे आपके लिए इतना नफ़रत का भाव, आपके मन मे मेरे लिए इतना प्रेम के भाव, इतना करुणा के भाव।

How to control your anger

  दुनियां गुस्से से नहीं, दुनियां प्रेम से चलती हैं। क्योंकि गुस्सा आपकी वास्तविक स्वभाव नहीं हैं। आपका भाव प्रेम हैं। आप चाह के भी सारा दिन गुस्से मे नहीं रेह सकते। पर प्रेम में आप सारा दिन गुजार सकते हैं। प्रेम आपके मन को शांति और सुकून देता है। लेकिन गुस्सा आपके मन को बेचैनी और दर्द देता है।

तो प्रेम करना और क्षमा करना गुस्से को शांत करने का इससे बेहतर उपाय कुछ हो ही नहीं सकता।   परसिया के महान राजा फ्रेडिक सेकेण्ड उनकी जीवन कि एक घटना हैं। उनके एक सेवक ने उनके चांदी के एक सुगंध वाली डब्बी से वह सुगंध ले रहे थे।

 

राजा ने उस सेवक को सुगंध लेते हुए देख लिया। राजा ने उस सेवक से पूछा,क्या तुमको वह सुगंध अच्छी लगी ? सेवक समझ गया कि राजा ने मुझे देख लिया है।    वह सर झुका कर खड़ा हो गया। राजा ने फिर पूछा, डरते क्यों हो, तुमको यह सुगंध अच्छी लगी। हां राजा यह सुगंध मुझे बहुत अच्छा लगा। फिर राजा ने बोला, ऐसा करो यह डब्बी तुम ही रख लो। यह एक छोटी सी डिब्बी हम दोनों के लिए पर्याप्त नहीं होगे।   

 यदि राजा चाहता तो उस सेवक को सजा भी दे सकता था। एक छोटा सा सेवक, मेरा व्यक्तिगत सामान को छेड़ता है। पर राजा ने क्रोध को नहीं, प्रेम को चुना।         हसन के बारे में एक किस्सा  बहुत प्रसिद्ध है। एक बार उनकी सेवक की गलती से एक गर्म सूप के प्याला उसके कपड़े में गिर गए। यह देख कर उसके सेवक बहुत डर गया।

और उसने झट से डर से कुरान की एक आयत का डालें। “स्वर्ग की हकदार वही है जो अपने गुस्से को काबू में रख सकते हैं।” हसन ने जवाब दिया मैं क्रोधित नहीं हूं। फिर सेवक ने आगे कहा, स्वर्ग उन्हीं का है, जो अपराधी को भी क्षमा कर देता हैं।   हसन बोले मैंने तुम्हे क्षमा किया। फिर उस सेवक ने कुराने आयत के अंतिम शब्द बोले, लेकिन स्वर्ग के सबसे बड़े हक़दार वो हैं, जो बुराई के बदले अच्छाई करते हैं।

 

  •  ये स्वर्ग क्या हैं, जो इंसान क्षमा करते हैं उसका जीवन स्वर्गमय हो जाता हैं।
  • और जो इंसान क्रोध के अग्नि मे जलता रहता है, उनका जीवन नर्क हो जाता है।
  • गुस्सा करने वाले गुस्सा करने से पहले भी बेचैन रहता है।
  • गुस्सा करने का समय भी बेचैनी को प्राप्त होता है, और गुस्सा करने के बाद में भी दुख को ही पाता हैं।
  •  

     तो क्षमा और प्रेम, इनमें इतनी ताकत है, आपकी अंदर दुखती हुई हर चीज को ठीक कर सकती है। आजकल लोगों में सहनशक्ति ही नहीं है। थोड़ी थोड़ी बातों में भी बस भटक जाते हैं। और फिर कई लोग कहते हैं कि अगर आज के जमाने में जीना है तो गुस्सा तो करना ही पड़ेगा।  

  आपको एक सच बात बताओ, आप जितनी बातों पर गुस्सा करते हो ना, उन बातों में 100 बातों में 90 बातें ऐसी होती है ना आप गुस्सा भी ना करो फिर भी चल जाएगा। फर्क नहीं पड़ेगा। पर यह फर्क जरूर पड़ेगा कि आप अपने जिंदगी में ज्यादा खुश रहेंगे।     

जो इंसान गुस्से, क्रोध और नफरत की अग्नि में ज़लता रहता है, उसकी रातों की नींद गायब हो जाती है। उसका दिल का चैन कहीं खो जाता है। चाह कर भी खुश नहीं रह सकता।  

4. बातों को भूल जाना : Forget the talk 

 

How to control your anger

Image Credit : Pexels.com

 वही इंसान सबसे ज्यादा गुस्सा करता है, जो बातों को दिल से भुला नहीं पाता। आप कल्पना करें कि अगर आपका माइंड का सिस्टम ऐसा हो, जो भी बात आपको दिल दुखाता है, झूठी बात आपको बुरी लगता है, आपका माइंड हर थोड़ी देर में, उस बात को आप बुला दे। अगर आप हर दुखती हुई बात, और चुभती हुई बात को भूलना सीख जाएंगे तो असंभव हो जाएगा आपके लिए गुस्सा करना। 

   आप बातों को दिल में याद रखते हैं, इसीलिए उन बातों के कारण आप गुस्सा करते हैं। आपके अंदर धीरे-धीरे वह बातें ज्वालामुखी के रूप लेने लगते हैं। बहुत बड़ा दिल चाहिए, किसी को माफ करने के लिए, बातों को ढूंढने के लिए। उन लोगों को नाम दुनिया याद रखती। जिन्होंने गुस्से का बदला गुस्से किया हो।  

 पर दुनिया उन्हें जरूर याद रखता है, जिन्होंने गुस्से का बदला प्रेम से दिया हो। और एक बात आप याद रखें, आप अपने अंदर दुखती हुई बातों का भंडार ना करें। जो बातें आपका चित् का चैन चुरा लेते हैं, जो बातें आपको दुख देती है, दर्द देती है, आपका नींद उड़ा ले डालती है।

उन्हें आप अपने अंदर बिल्कुल ना रखें।    जो भी आपके अपने हैं, आप प्रेम से, सहजता से उन बातों को उनके आगे रखिए। क्योंकि कई बार बातें प्रेम से ही कह देने से सारी उलझन  सुलझ जाती है। हर बात में जरूरी नहीं है कि हम तलवार उठा कर बैठ जाए।

हर बात में जरूरी नहीं है कि हम लड़ाई करने बैठ जाए। अधिकतर वही लोग भयानक गुस्सा करते हैं, जो अपने अंदर बातों को भरते रहते हैं। आप अपने अंदर बातों को बिल्कुल भी ना भरे।    

 आपको किसी के लिए कोई भी बात लगती है, चुभती है तो प्रेम से सहजता से उसको वह बात कह दे।

How to control your anger

Image Credit : Pexels.com

 एक बार एक व्यक्ति अब्राहम लिंकन के पास आया और बोले, मेरे अंदर क्रोध के बहुत अग्नि जलते हैं। नफरत पनप रही है। वो इंसान के लिए जिसने मेरे साथ बहुत गलत किया है। मुझे धोखा दिया है। मुझे बहुत चोट पहुंचाई है।    

अब्राहम लिंकन ने कहा, जो तुम यह सारी बातें जो मुझे बता रहे हो, यह सब एक चिट्ठी में उसके लिए लिखों। और वह व्यक्ति घर गया, और उसके मन में जो भी बातें थी,वह एक चिट्ठी में लिख डाली। और वह चिट्ठी लेकर के अब्राहम लिंकन के पास गया। और अब्राहम लिंकन को पूछने लगा, क्या यह चिट्ठी में उस इंसान को पोस्ट कर दो?    

अब्राहम लिंकन ने कहा बिल्कुल भी नहीं, पहले यह बताओ तुमको अब कैसा लग रहा है? उस व्यक्ति ने कहा, यह चिट्ठी लिखने के बाद मुझे बहुत हल्का लग रहा है। मन में शांति का अनुभव हो रहा है। तो अब्राहम लिंकन ने उस व्यक्ति से कहा, अब तुम यह चिट्ठी जला दो।  

 ऐसे ही, जब हम अपने दिल की बातें बाहर निकाल लेते हैं, तो हमारे मन में अपने आप शांति आ जाते हैं। बातें भरने से अशांति  आता हैं, और बातों को प्रकट करने से मन शांत हो जाता है। बस बात यह है कि, हमारा बातों का प्रकट करने का तरीका सही नहीं होता। जिसकी वजह से हम अपने सारे रिश्तो को खो देते हैं। हम रिश्तो में अपनी इज्जत भी खो देते हैं।

    आपने जिंदगी भर गुस्से को ट्राई किया, डॉक्टर को ट्राई किया, आप एक बार ना प्यार को ट्राई करके देखो। एक बार आप माफी को ट्राई करके देखो। देखो कि कैसा लगता है? आप कैसा अनुभव करते हैं? आप अपनी जिंदगी में ऐसे गुणी और अच्छी दोस्त जरूर बनाएं, जिनके आगे आप अपने दिल के सारा हाल कह सके।  

 और वह आपको सही रास्ता दिखा सके, गुस्से की आग से बचना चाहते हो तो आप जिन्हें प्यार करते हो, जो आपके अपने हैं, उसे अगर आप अपने गुस्से के आग से बचाना चाहते हो, तो आप अपने अंदर वह बात को कभी भी अंदर ना रखें, जो आपको दुख पहुंचाती है। जो आपको चोट पहुंचाती है।  

 तो बातों को भूल ना सीखे, लोगो से प्रेम करना सीखें, लोगों को माफ करना सीखें, ए चार बातें जो इंसान सिख गया ना, उस इंसान को दुनिया में कोई ताकत नहीं कि उसको गुस्सा दिला सके। कई लोग कहते हैं हम गुस्सा करते नहीं है, लोग हमें गुस्सा दिला देते हैं। यह इसलिए क्योंकि आप अपने स्वभाव ऐसा बना लिया है।

आपने अपना नियंत्रण लोगों को हाथ में दे दिया है।    अब जरूरत है आप अपना नियंत्रण अपने हाथों में रखें। अब जरूरत है आप शांति का मार्ग चुने। अब जरूरत है आप प्रेम का और क्षमा का मार्ग चुने।    

Leave a Reply