5-कारगर तरीके खुश रहने की | 5-Way to be happier in Hindi

5-Way to be happier

हर कोई खुशियों को ढूढ़ रहा होता हैं। लेकिन, बहुत ही कम लोग हासिल कर पाते हैं।और कोई भी स्कुल ये कलेज में हम को सिखाया नहीं जाता कि खुश कैसे रहा जाए। स्कूल में तो बस हम को सिखाया जाता हैं कि रटनी कैसे चाहिए और Marks कैसे लाना चाहिए। इसीलिए इस 5 points को आपको धयान से पढ़ना चाहिए।

1.सही अटैचमेंट चुने (5-Way to be happier)

खुशी के बारे में ज्यादातर लोग 2 तरीके से सोच सकते हैं। एक हैं जो आजकल कि दुनियां हैं। वो ए हैं कि आप को दुनियां के चीजे खुशियाँ देंगी। ढेर सारे पैसे, और महंगे महेंगे कपडे, और जितना बड़ा घर होगा आपका उतनी ज्या आपको ख़ुशी मिलेगी।

दूसरा  तरीका ये हैं कि बुद्ध के सिद्धांत से जुडी हुई हैं और वो आपको ये कहता हैं कि आपको साते सम्पति एसो आराम छोड़ देने चाहिए। और आप ख़ुशी सिर्फ जीने में मिलनी चाहिए और आपको ऐसे चीजे को पीछे कभी भगनी नहीं चाहिए। लेकिन, मुझे ये लगता हैं कि आपको इन दोनों को बिच में रहना चाहिए। सही तरीके कि चीजे के पीछे जाना चाहिए।

मान लीजिए कोई इंसान सोचता हैं कि पैसा उसे खुशियाँ देगा ही नहीं, काम करगा ही नहीं। जिसकी वजह से। इतने भी पैसा न रहे कि उसके पेट भर सकें। तो इस केस में उसको जिन्दा रहने के लिए थोड़े पैसे तो रहना चाहिए। वरना वो खुश रेह ही नहीं पाएगा। इसीलिए तरीके से, कोई इंसान ऐसा सोचें के पैसा उसकी सभी प्रोबलम को फिक्स कर देंगे। तो उसको बहुत बड़ा झटका लगेगा।

ज़ब उसको ये महसूस होगा कि ज़ब वो बड़ा घर खरीदे ने से भी वो और खुश नहीं हुआ। और हो सकता हैं वो और ज्यादा दुखी हो जाए। और ज्यादा उसकी प्रॉब्लम बढ़ जाएंगी। तो आपको खुश रेहने के लिए आपको सही तरीके के Attachment ढूढ़ ने  होंगे।

2.अनुकूल सिद्धांत  (5-Way to be happier)

 मैं आपको एक उदाहरण देता हूं। मान लीजिए कि एक आदमी नी एक लॉटरी जीता हैं। और दूसरा आदमी हैं जो सिर्फ 5 हजार रुपये महीना का कमाता हो। अगर मैं आपसे पुछु कि अगले एक साल में कौन ज्यादा ख़ुश रहेगा। हो सकता है ज्यादातर लोग बोले कि, जिसने लॉटरी जीता हैं वो खुशी होंगे। लेकिन ये जरूरी नहीं हैं।

हाँ माना कि लॉटरी जितने से वो थोड़ी देर के लिए तो वो ख़ुश हो जाएगा। ज़ब उसके पास सारा पैसा आ जाएगा वो सारे पैसा खर्च कर लेगा, और फिर उसकी सारी खुशियाँ वहीं चला जाएगा जहाँ पर वो था। इसीलिए तरह से जो आदमी है जो 5 महीने का हर महीना कमा रहा है।

हो सकता है वो एक actually में खुश हो। कमसेकम वो अपने परिवार को खाना तो खिला रहा हैं। और हो सकता हैं शायद उसको उतना पैसा भी नहीं चाहिए। और उसके लिए 5 हजार पैसा काफ़ी हो। चाहे जो भी हो।

3.आपकी खुशियां क्या छीन ले जाता है ( 5-Way to be happier )

तीसरी बात ये हैं कि,कौन सी चीजे आपकी खुशियाँ छीनते हैं या कौन सी चीजे आपको दुखी बनाते हैं? मुझे ये समझ में नहीं आता कि कितने लोग हैं जो इन चीजों को हटाते ही नही अपनी जिंदगी से जो उनको नाखुश कर रहे हैं। Happiness Hypothesis के लेखक ने हम लोगो को कुछ Common चीजे दी हैं, जो हर किसी को नाखुश करते हैं।

बहुत ज्यादा आवाज, सामाजिक ना होना, खुद को नियंत्रण ना होना, लजास्पद और ख़राब रिश्ते। काफी लोग यह सोचते हैं कि यह सारे चीज तो जिंदगी में होगी। और हम को उनके साथ जीना ही पड़ेगा। लेकिन उनमें से हम काफी चीजों को हटा सकते हैं। जैसे कि मैं आपको अपना उदाहरण देता हूं।

कॉलेज में एक टाइम था, मैं बहुत नाखुश था, और मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि इसको मैं कैसे फिक्स करूं। लेकिन यह किताबें पढ़ने के बाद मुझे मालूम हुआ कि यह क्यों था। मैं हर रोज कॉलेज ऑटो से जाता था। इसका मतलब ये हैं कि हर सुबह मुझे ज्यादा भीड़भाड़ और ज्यादा आवाजों के बिच रहना पड़ता था।

इसकी वजह से  मेरी ख़ुशी अपनेआप दिन कि शुरुवात में कम हो जाती थी। मुझे लगता था कि मेरा जीवन में मेरा कोई नियंत्रण नहीं हैं। क्योंकि मैं ऐसे चीजे पढ़ रहा था जिसके बारे में मैं उत्साहित नहीं था। और मेरे दोस्त भी बहुत नेगेटिव हो ते थे। फिर मैंने सोचा कि मैं इस चीज को बदल दूंगा। मैं अपने कॉलेज के बहुत पास रहने लगा। ताकि मुझे ट्रैफिक में ज्यादा देर तक फंसना ना पड़े।

मैं जिम जाने लगा और मेरे स्वास्थ्य का ख्याल रखने लगा।ताकि मुझे लगे कि और कंट्रोल हैं मेरे पास और मैंने अपने नेगेटिव दोस्तों के साथ रहना छोड़ दिया। ये ससब करने वाद मैं अपनेआप ज्यादा ख़ुश रहने लगा। कभी कभी ये सब चीजें आपको थोड़े समय के लिए झेलनी होंगी। कि मान लीजिए आपको ज्यादा देर तक travel करके काम के लिए जाना पड़ता हो। लेकिन, ये चीजें बहुत ज्यादा समय तक रहेगी तो आपके खुशियाँ कम कर देगी।

4. आपकी ख़ुशी में क्या जोड़ता है ( 5-Way to be happier )

ये बातें अगले बातें से बिलकुल उलट हैं। आपको ये समझ ना होगा कि क्या चीजे आपकी खुशियाँ बढाती हैं? क्या चीजे आपको ख़ुश कर देती हैं। और फिर बाहर जाके वहीं चीजे करनी होंगी। Physical touch काफ़ी लोगो कि खुशियाँ बढाती हैं।

नवजात शिशु में एक study कि गई थी, जिसे Constantly Touch नहीं  किया जा रहा था तो वो और नर्वस हो जातें थे और तो Unhealthy हो जातें थे। Physical touch मतलब ये हैं कि जैसे किसी के गले लगाना आपकी खुशियाँ को बढ़ा देती हैं। ये जरूरी नहीं हैं कि कोई बड़ी चीज होनी चाहिए।

एक दोस्त का गले लगाना भी खुशियों को बहुत बढ़ा देतें हैं। बहुत अच्छे रिश्ते भी हमारी खुशियों को बढाती हैं। हमारे पेरेंट्स के साथ अच्छे बातें होना, कोई दोस्त के साथ अच्छी बातें होना, आपके गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड हो या और कोई जिसके साथ भी अच्छी रिश्ते हैं तो वो आपके खुशियों को बढ़ा देती हैं।

काफ़ी लोग सोचते हैं कि पैसा ही उनको खुशी देगा और Personal Relationship को Ignore कर देतें हैं जो आपको Unhealthy बना देतें हैं।

5. सफलता  के लिए निरंतर प्रयास (5-Way to be happier)

आपके साथ कभी ऐसा हुआ है कि आप कोई लक्ष्य के पीछे भागते हो। जिसके लिए आपने बहुत समय तक मेहनत किया हो। और आपने वह चीज हासिल कर लिया हो, लेकिन आपको कोई खुशी ही नहीं मिली। यह इसलिए कि वह कोई इवेंट नहीं है, जो आपको खुशियां देता है।

उसके लिए आपको काम करना आपको खुशियां देता है। तो ज़ब आप व्यस्त होते आप अपने लक्ष्य के लिए काम कर रहे होते हैं, तब आप खुशी होते हैं। आप किसी चीज के लिए वेट कर रहे हैं। आप वो चीजे पूरा कर रहे हैं।

आपको एक परपोज़ मिला हैं। लेकिन जब आप पहाड़ के चोटी में चढ़ जाते हो और आप वापस दिखते हो कि आपने कितनी मेहनत की है। तो बस वही होता है आपका प्रोग्रेस भी फुलफिल हो गया। और आप एक तरह से नाखुश भी हो जाते हैं क्योंकि आपके पास अब कुछ बचा नहीं करने को।

 तो इसलिए खुशियां को सबसे बेस्ट तरीका है ढूंढने का, क्या आप कुछ ना कुछ करते रहिए। कुछ काम  किया करिए, हमेशा अपने दिमाग में एक लक्ष्य रखीए। इसका मतलब यह नहीं कि जब आपने कोई सफलता हासिल कर लिया तो उसका सेलिब्रेट ना करें, इसका मतलब यह है कि आपको याद रखना चाहिए कि जीवन में एक ही लक्ष्य आपको खुश रख देगा।

आपको एक लक्ष्य पूरा होने के बाद में दूसरा लक्ष्य के लिए भी सोचना चाहिए। लेकिन, ज़ब आप पहाड़ के चोटी में पहुंच जातें हैं और आप वापिस देखते हैं कि अपने कितनी मेहनत कि हैं तो वस वो वहीं होता हैं। आपकी उदेश्य भी पूरा हो गया। और फिर आप नाखुश हो जातें हो .

 यह भी जरूर पढ़े : 

Leave a Reply